रवि पुरोहित

























भाषा, साहित्य, संस्कृति कला, इतिहास, शोध अर तत्संगत विषयां मांय रुचि । हिन्दी अर राजस्थानी दोनूं भाषा माध्यमां सूं कविता, कहानी, व्यंग्य, लघुकथा, शोध आलेख अर सम-सामयिक विषयां माथै लगोलग लेखन । 
छपी पोथ्‍यां:  
हिन्दी -
  • एक और घोंसला (कहानियां), 
  • सेना के सूबेदार (काव्य), 
  • सपने का सुख (व्यंग्य निबंध)
राजस्थानी:
  • चमगूंगो, 
  • हासियो तोड़ता सबद (काव्य),
  • तिरंगो (बाल काव्य)
 खास : राष्‍ट्रभाषा हिन्‍दी प्रचार समिति, श्रीडूंगरगढ़ री मारफत जबरी सक्रियता। राजस्‍थानी तिमाही 'राजस्‍थली' पेटै ई उल्‍लेखजोग कारज।
ठिकाणो - 
श्रीडूंगरगढ़
बीकानेर
कानाबाती- 
9414416252

ब्‍लॉग- 
http://ravipurohitravi.blogspot.com/

No comments:

Post a Comment